पिछले 30 सालों से औरत बन कर घूम रहा है ये आदमी, वजह जानकर हैरान रह जाएंगे आप

0
61
Up Jaunpur Man Chintaharan wear Woman dressup for 30 years of fearing death

नमस्कार दोस्तों, आज हम आपको एक ऐसे व्यक्ति की कहानी बताने जा रहे है जो पिछले 30 सालों मौत के डर से बद से बत्तर जिन्दगी जी रहे है. बतादे उत्तर प्रदेश के जौनपुर में जलालपुर थाना क्षेत्र के हौज खास निवासी ‘चिंता हरण चौहान’ को अपनी मौत का डर पिछले 30 सालों से सता रहा है. यही वजह है की वह 30 सालों से मर्द होने के बावजूद औरत बनकर रह रहे हैं. तो क्या है इसके पीछे की वजह चलियें आपको बताते है!

Up Jaunpur Man Chintaharan wear Woman dressup for 30 years of fearing death

14 लोगों की हो गई मौत 

66 साल के ‘चिंता हरण’ के मुताबिक प्रेत आत्मा के चक्कर में उनके परिवार में अब तक 14 लोगों की मौत हो गई है. दरसल 14 साल की उम्र में चिंता की शादी हो गई थी. लेकिन शादी के कुछ दिन बाद ही उनकी पत्नी की मौत हो गई. इसके बाद वह अपनी ज़िन्दगी से निराश होकर परिवार से दूर पश्चिम बंगाल के दिनाजपुर में एक ईट के भट्ठे पर काम करने चले गए. यहां उनका काम भट्टों के मजदूरों के लिए खाने का सामान बाजार से लाने की जिम्मेदारी थी!

Up Jaunpur Man Chintaharan wear Woman dressup for 30 years of fearing deathइस दौरान चिंता की दोस्ती स्थानीय बंगाली राशन दुकानदार से हो गई. फिर एक दिन बंगाली दुकानदार ने अपनी बेटी की शादी का प्रस्ताव चिंता हरण के सामने रखा. चिंता ने भी अपने अकेलेपन को दूर करने के लियें बिना सोचे-समझे बंगाली लड़की से विवाह कर लिया. जब इस बात का पता चिंता के घर वालों को लगा तो उन्होंने इसका विरोध किया. ऐसे में चिंता लड़की को वही छोड़कर वापस अपने परिवार के पास आ गए. दूसरी तरफ लड़की ने चिंता से मिले इस धोख के कारण आत्महत्या कर ली!Up Jaunpur Man Chintaharan wear Woman dressup for 30 years of fearing deathहालाँकि कुछ सालों बाद चिंता के घरवालों ने उसकी तीसरी शादी कर दी. फिर शादी के बाद से ही चिंता बीमार पड़ गए. और उनके परिवार के सदस्यों के मरने का सिलसिला शुरू हो गया. चिंता हरण के अनुसार पहले उनके पिता, बड़ा भाई, उसकी पत्नी और उसके दो बेटे की मौत का सिलसिला एक के बाद एक चलता रहा. यह देखकर चिंता बेहद डर गए!

Up Jaunpur Man Chintaharan wear Woman dressup for 30 years of fearing death

चिंता के मुताबिक उनकी मृतक बंगाली पत्नी उनके सपने में हमेशा आती थी. और उसके द्वारा दिए गए धोखे पर खूब रोती थी. लेकिन एक दिन सपने में चिंता ने अपनी बंगाली पत्नी से उसके परिवार के अन्य सदस्यों को बख्ख देने की गुहार लगाई. इससे पत्नी का दिल पिघला और उसने कहा कि मुझे सोलह सिंगार के रूप में हमेशा अपने साथ रखो, तब ही मैं सबको बख्श दूंगी. ऐसे में तब से ही चिंता पिछले 30 सालों से सोलह श्रृंगार करके एक महिला के रूप में जी रहे हैं. लेकिन वो बताते है की वह अपना जीवन डर में जी रहे हैं।

यहाँ ख़बर भी देखें- 14 करोड़ रुपए का भैंसा, इसकी एक दिन की खुराक जानकर हैरान रह जाएंगे आप

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here