हवा में झूलते है इस मंदिर के खंभे, देखकर आपको भी नहीं होगा अपनी आखों पर यकीन

0
80

नमस्कार, आज हम आपको आंध्र प्रदेश के अनंतपुर जिले के लेपाक्षी मंदिर के बारे में बताने जा रहे है! जो की अपने हवा में झूलते खंबों के लिए पूरी दुनिया में मशहूर है। जी हा बतादे इस मंदिर के 70 से ज्यादा खम्बे बिना किसी सहारे के खड़े हैं और वो भी मंदिर को संभाले हुए। बतादे यहाँ आने वाले श्रधालुओं की ऐसी मान्यता है की इन खम्बों के नीचे से अपना कपड़ा निकालने से सुख-समृद्धि प्राप्त होती है।

अंग्रेजो ने की थी खंबों के रहस्य को जानने की कोशिश

बतादे अंग्रेजों ने 16वीं शताब्दी में बने इस मंदिर के खंबों के रहस्य को जानने की कोशिश की थी, लेकिन वे नाकाम रहे। फिर इसके बाद जब एक इंजीनियर ने इसके रहस्य को जानने के लिए मंदिर को तोड़ने का प्रयास किया तो देखा की मंदिर के सारे खंभे हवा में झूल रहे हैं। ऐसा कहा जाता है की यह मंदिर सन् 1583 में विजयनगर के राजा के लिए काम करने वाले दो सगे भाई विरुपन्ना और वीरन्ना ने बनाया था। वहीं पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इस मंदिर को ऋषि अगस्त ने बनावाया था।

जिसने भी इस लड़की की आखों को देखा वो बस देखता ही रहा गया, अब पूरी दुनिया में हो रही इसकी चर्चा

दुनिया की सबसे बड़ी नागलिंग प्रतिमा

बतादे यह मंदिर भगवान शिव,विष्णु और वीरभद्र के लिए बनवाया गया था। और इन तीनों भगवान के अलग-अलग मंदिर भी यहाँ मौजूद हैं। इसके साथ ही इस मंदिर के परिसर में एक बड़ी सी नागलिंग प्रतिमा भी है जो दुनिया की सबसे बड़ी नागलिंग प्रतिमा है। पत्थर से बनी इस मूर्ति में शिवलिंग के ऊपर सात फन वाला नाग बैठा है जो की दिखने में बहूत ही अदभुत लगता है। वही दूसरी ओर मंदिर में रामपदम स्थित हैं! कई लोगों का ऐसा मानना है की यह सीता माता के पैरों के निशान हैं।

यह भी देखें- अक्षय कुमार के साथ काम करने वाला ये एक्टर अब कर रहा है                 सिक्यूरिटी गार्ड की नौकरी, इस कारण छोडनी पड़ी इंडस्ट्री

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here